Thursday, July 17, 2014

क्रीड़ा

एक बार फिर पाठकों को नमस्कार ! अंतराल को अनदेखा करके फिर से पढ़ेंगे तो अच्छा लगेगा  हालाँकि जानती हूँ नियमित होना लेखन में ही नहीं जीवन में भी ज़रूरी है. अगले ही पल खुद को समझाने लगती हूँ झरने जैसे जीवन की अपनी ही खूबसूरती है. कभी बहता झरता और कभी सूखा सूखा....फिर से झरना झरझर करके बहने को आतुर 'क्रीड़ा' कविता लेकर आया है....

क्रीड़ा ही बचपन का जीवन
खिल उठता जिससे शिशु का मन
          जैसा गिरि का  निर्झर निर्मल
          जैसा वन की सरिता का जल
          जैसा उपवन का पंछी -  दल
          स्वच्छन्द, मुक्त, हर्षित, चंचल
वैसा ही शिशु, वैसा बचपन
क्रीड़ा ही बचपन का जीवन
          इमली, रसाल, बरगद, पीपल
          इन तरुओं की छाया शीतल
          मखमली, हरा, कोमल-कोमल
          जग के आँगन का दूर्वा-दल
बस यहीं फुदकता कोमल तन
क्रीड़ा ही बचपन का जीवन
          चाँदनी रात में उछल-उछल
          क्रीड़ा करता है जब शिशु दल
          सुन-सुन इनका कलरव उस पल
          आती बाहर तारिका निकल
कितना सुंदर वह छवि-दर्शन
क्रीड़ा ही बचपन का जीवन !

"गोपाल सिंह नेपाली"
   



6 comments:

Kavita Rawat said...

गोपाल सिंह नेपाली" जी सुन्दर रचना साझी करने के लिए धन्यवाद

Kavita Rawat said...

गोपाल सिंह नेपाली" जी सुन्दर रचना साझी करने के लिए धन्यवाद

harekrishna ji said...

मुझे आपका blog बहुत अच्छा लगा। मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। मुझे लगता है कि आपको इस website को देखना चाहिए। यदि आपको यह website पसंद आये तो अपने blog पर इसे Link करें। क्योंकि यह जनकल्याण के लिए हैं।
Health World in Hindi

Anonymous said...

aapne bahut hi accha lekh prstut kiya he iske liye aapka bahut dhanywaad

HindIndia said...

बहुत ही सटीक ....... बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति। Nice article ... Thanks for sharing this !! :):)

Udan Tashtari said...

गोपाल सिंह नेपाली" जी की सुन्दर रचना -आभार